भरम में क्या जीना!

कुछ वक्त को कहने दो, कुछ गुनगुनाने दो परिंदो को
कुछ लोगों को समझने दो, कुछ कहने दो हवाओं को

रह जाएंगी तमाम कसक, तमाम सिलसिले बिखरे से
कुछ यादों में रहने दो, कुछ दबा रहने दो किताबों में

ना तुम्हारा होना कुछ है, ना हमारा न होना कुछ है
कुछ भरम रहने दो, कुछ कहने दो कहने वालों को

#यूहीं#दोलाईना#योगेश

Kasmir-2

Advertisements

वक्त की नजाकत

सजा लो कुछ बूंदें ओस की जुल्फ में अपनी
शाम ढलने का मुझसे अब सुबूत मांगती है!

कह दो शाख से जरा संभल कर रहे अबकी
वसंत से पहले ही वो क्यों इतराना चाहती है!

वक्त से पहले नजाकत और नफासत दोनों
ज़माने में कभी किसी के काम नहीं आती है!

#यूहीं#दोलाइना#योगेश

lonely11

 

हादसा और मुहब्बत

फिर बनेंगे कुछ घरौंदें हर जलजले के बाद
जैसे होता है इश्क में ‘उनके’ रूठने के बाद!

ज़िन्दगी लौट आयेगी पटरी पर, भरोसा है
जैसे होता है उनकी हर मुस्कुराहट के बाद!

निशां बाकी रहेंगे इस सैलाब के भी,उम्र भर
जैसा होता है मुहब्बत में दिल टूटने के बाद !

#यूंहीं#दोलाइना#योगेश

gold-2

आंसू की वफा 

वो आंख से ढलका तो ज़रूर होगा तेरे जाने के बाद,
नाम आंसू है उसका हर दौर में वो ठहरेगा वफादार!

तमाम चेहरों को बेनकाब होते देखा है नामुराद ने,
छोटी मोटी बातों पर कैसे दिल तोड़ते हैं रसूखदार!

छुपा लेते तमाम हसरतें और अनगिनत गम हम भी,
इक हिचकी आयी औ बेजुबां कह गया दिल का हाल!

ice

#ihatetears#आंसू#midnightthougts#😢😔