बर्बर समाज में ‘ज्ञान की मशाल’ जलाने की हिम्मत न करिऔ…

रुचि मिश्रा

हमारे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान का ये वाक्या आंख खोलने वाला है। मासूम छात्र मशाल खान को जिस तरह मरदान के विश्वविद्यालय कैंपस में दिनदहाड़े हजारों की भीड़ के सामने पीट-पीटकर मार डाला गया, वाे असभ्यता की पराकाष्ठा है। भीड़ का आरोप था कि मशाल खान ने ईश निंदा की है। पूरे वाक्ये में तमाशबीन रही पुलिस का कहना है कि ईश निंदा का कोई मामला दर्ज ही नहीं कराया गया। तो… भीड़ ने आरोप लगाया, सजा सुनाई और उस पर अमल भी खुद ही कर दिया। ‘ज्ञान की मशाल’ जलाने निकले युवा की जिंदगी की मशाल भीड़ ने बुझा दी।

सोशल मीडिया पर मशाल खान के दोस्त और सिविल सोसाइटी के लोग खुलकर आ रहे हैं। उनका कहना है कि मशाल खान तो ज्ञान की मशाल जलाने निकला था। वो खुद को मानवतावादी बताता था। अब्दुल वली खान विश्वविद्यालय में मॉस कम्युनिकेशन का छात्र था। वो साथियों से कहता था कि पत्रकार बनकर समाज से अज्ञानता का अंधियारा मिटाएगा। लोगों के बताएगा कि विज्ञान ही आज आपको, समाज को आगे ले जा सकता है।

पर, वो ये सब बाते गलत जगह पर कर रहा था। एेसे मुल्क में कर रहा था, जहां समाज का बड़ा तबका पोलियो की दवा, जनगणना और एेसे तमाम वैज्ञानिक कामों को धर्म के विरुद्ध बता देता है, जो सरकारें करना चाहती हैं। फिर, मशाल खान तो बच्चा था। उसकी ज्ञान की बातें कौन सुनता। उसके साथ पढ़ने वाले मासूमों को ही भड़काकर मशाल को ईशद्रोही साबित किया गया। विश्वविद्यालय में हथियार पहुंचाए गए और फिर भीड़ का रूप देकर एक वैज्ञानिक सोच का कत्ल कर दिया गया। न पुलिस में मामला दर्ज कराया, न मशाल को उसका दोष बताया, न कानून का पालन। बस भीड़ का फैसला, भीड़ ने लागू कर दिया।

भीड़ तंत्र किसी भी सभ्य समाज के लिए घातक है। जब भीड़ पड़ोसी मुल्क में एेसा करेगी तो हमें बुरा लगेगा। पर, देखते रहिएगा कहीं आप भी तो नहीं किसी एेसी भीड़ का हिस्सा बनते जा रहे हैं। जिस भी समाज में कानून का राज खत्म होकर भीड़ का राज शुरू हो जाएगा, वहां हिंसा और प्रतिहिंसा होना लाजिमी है। आंख खुली रखिए, लोकतंत्र के महापर्व की भीड़ का हिस्सा बनिए। लेकिन, कभी भी एेसी भीड़ में शामिल न होइए जो कानून अपने हाथ में लेती हो।

 

Advertisements

बात पते की : तो क्या संघ भी बड़े बदलाव की ओर चल पड़ा है !

पहले दिल्ली में भाजपा की सरकार। फिर महाराष्ट्र, हरियाणा होते हुए असम और जम्मू-कश्मीर तक भाजपा की सरकार।  अब यूपी, उत्तराखंड, गोवा से मणिपुर तक कमल खिल गया। प्रचारकों की रात-दिन की मेहनत और संघ की कुशल रणनीति कामयाब हुई तो पूर्व प्रचारकों को पीएम से लेकर सीएम तक की जिम्मेदारी दी गई।

हिंदू  मतों के बिखराव को रोकने में संघ और उसके प्रचारक कामयाब रहे। हिंदुत्व की प्रयोगशाला का सफल परीक्षण है जाति प्रथा को छोड़कर हिंदू होने के भाव को आगे बढ़ाना। यूपी के चुनाव में मिली जीत इस प्रयोग की सफलता का बड़ा नमूना है। पर, जो किसी सफलता पर न रुके, नई मंजिल और नए लक्ष्य की ओर बढ़ चले, उस संस्था का नाम है आरएसएस।

इधर कुछ दिनों की गतिविधियों से एेसा प्रतीत हो रहा है कि आरएसएस खुद को भी बदल रहा है। सबसे बड़ा बदलाव आया है ड्रेस मैं। अब स्वयंसेवकों का हॉफ की जगह फुल पैंट पहनना बड़ा बदलाव है। इससे बड़ा बदलाव  है शााखाओं में इंजनियर – डाक्टर  की बढ़ती संख्या। उससे भी बड़ी बात है इन हाइटेक युवाओं के बीच से ही नए नेतृत्व की तलाश। फिर उनको तराशना और फिर राष्ट्र जागरण के काम में लगाना।

तभी तो कोयंबटूर में हुई  आरएसएस कार्यकारिणी की बैठक में यूपी जैसे बड़े राज्य में प्रांत स्तर पर प्रचारकों के कामकाज में भारी बदलाव किया गया। यूपी में कई प्रांत प्रचारकों कार्यक्षेत्र मंगलवार को ही बदल दिए गए हैं। दत्तात्रेय होसबोले जी जैसे युवा पदाधिकारी को बड़ी जिम्मेदारी दी जा रही है। मतलब, संघ भी बड़े बदलाव की ओर बढ़ रहा है। नए संकल्प के साथ नई ऊर्जा भी जुटाने का काम शुरू हो गया है। वैसे भी देश के 16 राज्यों में भाजपा की सरकार होने का फायदा तो है ही।

बोले थे ना ! यूपी वालों इतने एमएलए दूंगा कि …

UP CM Race: More Leaders, More Confusion

रुचि मिश्रा:

बड़े-बुजुर्ग कोई बात एेसे ही थोड़े कह गए हैं। एक संत कहे थे…अति का भला ना बरसना, अति की भली न धूप। आज ये कहावत उत्तर प्रदेश में भारी जीत के बाद भारतीय जनता पार्टी के ऊपर फिट बैठ रही है। कभी 100 विथायकों काे तरसने वाली पार्टी के पास 2017 के चुनाव में बहुमत से 110 विधायक ज्यादा आए हैं। सहयोगी दलों का संख्या बल बोनस में है।

जितना बड़ा बहुमत, उतनी बड़ी जिम्मेदारी। ये बात खुद भाजपा के एकमात्र चेहरा बन चुके माननीय प्रधानमंत्री कह चुके हैं। जिम्मेदारियों की शुरुआत तो विधायकों के शपथ लेने से पहले ही हो चुकी है। चुनौती है इतनी बड़ी संख्या में विधायक चुनकर आई शख्सियतों का नेता यानी सूबे का नया मुख्यमंत्री चुनने की। रोज सुबह एक नाम चलता है, शाम तक या तो वह खुद खंडन कर देता है अथवा टांय-टांय फिस्स हो जाता है।

एेसे में लोगों के जेहन में दबंग वाले सलमान खान की तर्ज पर तरह-तरह के क्रिएटिव आइडिया आ रहे हैं। कुछ लोग सोशल मीडिया का सहारा ले अपनी पसंद का नाम उछाल रहे हैं तो कुछ अपने क्रिएटिव आइडिया से व्यंग्य पैदा कर रहे हैं। एेसा ही एक  क्रिएटिव आइडिया वायरल है… बोले थे ना ! यूपी वालों इतने एमएलए दूंगा कि तुम तय नहीं कर पाओगे कि नेता इनमें से चुना जाए या बाहरी को लाकर बैठा दिया जाए।

व्यंग्य अपनी जगह हैं। सोशल मीडिया के क्रिएटिव आइडिया भी मन बहलाने के लिए ठीक हैं। लोग हमेशा चाहते हैं कि सूबे की कमान उस नेता के हाथ में हो, जिसे उन्होंने चुनकर भेजा है।  वैसे, लोकतंत्र का भी तो यही तकाजा है।